jamshedpur the city of steel

Jamshedpur : The City of Steel | (जमशेदपुर – भारत का औद्योगिक शहर)

जमशेदपुर, जिसे टाटानगर के नाम से भी जाना जाता है, भारत के झारखंड राज्य का एक शहर है। यह झारखंड के दक्षिणी भाग में स्थित पूर्वी सिंहभूम जिले का एक हिस्सा है। इसकी स्थापना टाटा समूह (Tata Group) के संस्थापक जमशेदजी टाटा (Jamsetji (Jamshedji) Nusserwanji Tata) ने की थी और उनके नाम पर इसका नामकरण किया गया था। इसकी स्थापना 1919 में हुई थी। 1907 में टाटा आयरन ऐंड स्टील कंपनी (टिस्को) की स्थापना से इस शहर की बुनियाद पड़ी। इससे पहले यह साकची नामक एक आदिवासी गाँव हुआ करता था। यहाँ की मिट्टी काली होने के कारण यहाँ पहला रेलवे-स्टेशन कालीमाटी के नाम से बना जिसे बाद में बदलकर टाटानगर कर दिया गया। जमशेदपुर आज भारत के सबसे प्रगतिशील औद्योगिक नगरों में से एक है।

tata steel jamshedpur
Tata Steel Jamshedpur (Photo Courtesy : @imkarki)

जमशेदपुर को स्वच्छ सर्वेक्षण (Swach Survekshan) 2020 में भारत के सबसे स्वच्छ शहर के रूप में स्थान दिया गया था और 2010 में भारत के 7वें सबसे स्वच्छ शहर के रूप में स्थान दिया गया था। जीवन की गुणवत्ता के मामले में भी यह शहर भारत में दूसरे स्थान पर है। मेयर्स फाउंडेशन (City Mayors Foundation) के अनुसार जमशेदपुर शहर दुनिया का 84वां सबसे तेजी से बढ़ने वाला शहर है। यह झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले का मुख्यालय है और जनसंख्या के हिसाब से भारत का 36वां सबसे बड़ा शहरी समूह (Largest Urban Agglomeration) और 72वां सबसे बड़ा शहर है। जमशेदपुर को भारत का पिट्सबर्ग भी कहा जाता है।

पर्यटन (Tourism)

लोहानगरी के नाम से जाना जाने वाला जमशेदपुर सिर्फ झारखंड में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मशहूर है। इसे टाटानगर के नाम से भी जाना जाता है। जमशेदपुर अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। यहां स्थित कई सुरम्य स्थान प्रकृति की वास्तविक सुंदरता के प्रमाण प्रस्तुत करते हैं। इस शहर को देखने के लिए दुनिया भर से लोग आते हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर की फैक्ट्रियों जैसे टिस्को, टेल्को के अलावा भी कई ऐसे पर्यटन स्थल हैं, जिन्हें देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। यहां के हरे-भरे जंगल, पहाड़ियां, झरने और नदियां अपने पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं।

इतिहास (History)

देश-विदेश में लोहानगरी के नाम से मशहूर जमशेदपुर शहर का इतिहास बेहद गौरवशाली रहा है। इसका दूसरा नाम टाटानगर भी है। इतिहास के पन्ने पलटें तो इस शहर से जुड़ी कई कहानियां ऐसी हैं, जो देश-विदेश में कहीं न कहीं इस शहर का मान बढ़ा देती हैं। दरअसल 27 अगस्त, 1907 में दो करोड़ रुपये से टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी (टिस्को) की स्थापना हुई थी। उसी से लौहनगरी की बुनियाद भी पड़ी थी। वहीं 27 फरवरी 1908 को कारखाना और शहर का निर्माण कार्य शुरू हुआ था।

एक बार, जब वे मैनचेस्टर में थे, जे. एन. टाटा (Jamsetji Nusserwanji Tata) ने दार्शनिक थॉमस कार्लाइल (Thomas Carlyle) के एक व्याख्यान में भाग लिया जिसमें उन्होंने कहा, “जो देश लोहे पर नियंत्रण हासिल कर लेता है वह जल्द ही सोने पर नियंत्रण हासिल कर लेता है।” इन शब्दों से प्रेरित होकर, जे एन टाटा (Jamsetji Nusserwanji Tata) ने भारत का पहला इस्पात संयंत्र स्थापित करने का निर्णय लिया क्योंकि इससे अर्थव्यवस्था में बड़े पैमाने पर उछाल आ सकता है।

पिट्सबर्ग से लौटने के तुरंत बाद, उन्होंने भूविज्ञानी चार्ल्स पेज पेरिन (Charles Page Perin) की मदद मांगी ताकि उन्हें एक आदर्श स्थान खोजने में मदद मिल सके जो लोहा, कोयला, चूना पत्थर और पानी से भरपूर हो। 1904 में, चार्ल्स पेरिन (Charles Page Perin) ने मध्य प्रदेश में खोज शुरू की, लेकिन उन्हें कोई उपयुक्त स्थान नहीं मिला।

बाद में, मयूरभंज के महाराजा ने जे. एन. टाटा (Jamsetji Nusserwanji Tata) की मदद के लिए अपने दरबार के एक प्रसिद्ध भूविज्ञानी प्रमथ नाथ बोस (Pramatha Nath Bose) को नियुक्त किया। बहुत शोध के बाद, बोस ने साकची (जिसे अब जमशेदपुर के नाम से जाना जाता है) नामक एक छोटे से गाँव की खोज की और सर जे. एन. टाटा (Jamsetji Nusserwanji Tata) को वहाँ एक संयंत्र स्थापित करने का सुझाव दिया। सुवर्णरेखा और खरकई नदियों के संगम के पास स्थित, यह संयंत्र के लिए आदर्श विकल्प था। संयंत्र का निर्माण 1908 में शुरू हुआ। टाटा आयरन एंड स्टील कंपनी (टिस्को) की स्थापना जमशेदजी नसरवानजी टाटा ने की थी और 26 अगस्त 1907 को सर दोराबजी टाटा द्वारा स्थापित किया गया था। टिस्को ने 1911 में पिग आयरन का उत्पादन शुरू किया और जमशेदजी के टाटा समूह (Tata Group) की एक शाखा के रूप में 1912 में स्टील का उत्पादन शुरू किया। पहला स्टील पिंड 16 फरवरी 1912 को निर्मित किया गया था। यह दिन औद्योगिक भारत के इतिहास में एक ऐतिहासिक दिन था।

जमशेदजी ने शहर के लिए कई योजनाएँ बनाईं। उन्होंने श्रमिकों के रहने की व्यवस्था के अलावा, सभी सुविधाओं के निर्माण पर जोर दिया जो एक शहर प्रदान कर सकता है। इसके अलावा जुबली पार्क जैसे पर्यटन स्थलों का निर्माण किया गया। जमशेदजी टाटा ने नगर का निर्माण करते समय कहा था:

  • छायादार वृक्षों के साथ चौड़ी सड़कें बनाएं।
  • सुनिश्चित करें कि लॉन और बगीचों के लिए पर्याप्त जगह है।
  • फुटबॉल, हॉकी और पार्कों के लिए बड़े क्षेत्र आरक्षित होने चाहिए।
  • मंदिरों, मस्जिदों और गिरजाघरों के लिए क्षेत्र निर्धारित किए जाने चाहिए।

—  जमशेदजी टाटा

sakchi jamshedpur
Sakchi, Jamshedpur (Photo Courtesy : @imkarki)
भूगोल (Geography)

जमशेदपुर झारखंड राज्य के दक्षिणी छोर में स्थित है और इसकी सीमा ओडिशा और पश्चिम बंगाल राज्यों से लगती है। शहर की औसत ऊंचाई 135 मीटर है जबकि सीमा 129 मीटर से 151 मीटर तक है। जमशेदपुर का कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 224 वर्ग किमी है। जमशेदपुर मुख्य रूप से एक पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है और पश्चिम से पूर्व की ओर चलने वाली दलमा पहाड़ियों से घिरा हुआ है। शहर के पास अन्य छोटी पहाड़ी श्रृंखलाएं हैं उकम हिल और जादूगोड़ा-मुसाबनी पहाड़ी श्रृंखला। यह शहर छोटा नागपुर पठार क्षेत्र का भी एक हिस्सा है।

जमशेदपुर खरकई और सुवर्णरेखा नदियों के संगम पर स्थित है। सुवर्णरेखा जमशेदपुर की प्रमुख नदी है, जो इस क्षेत्र के पश्चिम से दक्षिण-पूर्व भाग की ओर बहती है। इस क्षेत्र में कई छोटी नदियाँ, विशेष रूप से सहायक नदियाँ, सुवर्णरेखा नदी में मिलती हैं। खरकई दक्षिण से बहती हुई दोमुहानी नामक स्थान पर सुवर्णरेखा नदी में मिल जाती है। दो नदियाँ शहर के लिए पीने के पानी और भूजल के प्रमुख स्रोत हैं। शहर के पास अलग-अलग आकार की कई झीलें भी स्थित हैं। उनमें से प्रमुख हैं डिमना झील और सीतारामपुर जलाशयडिमना झील इस क्षेत्र का एक प्रमुख पर्यटन स्थल भी है। ये दोनों झीलें शहर को पीने के पानी की आपूर्ति भी करती हैं। शहर पर्णपाती प्रकार के वन क्षेत्र के अंतर्गत आता है। इस क्षेत्र में वन कुल भूमि क्षेत्र का लगभग 33% होने का अनुमान है। शहर भूकंपीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है। जमशेदपुर के आसपास कई पार्क हैं। साकची में जुबली पार्क जमशेदपुर का सबसे बड़ा पार्क है। इसे जमशेदजी टाटा ने बनवाया था, जो मैसूर के वृंदावन गार्डन से प्रेरित थे। इसके अलावा शहर में सर दोराबजी टाटा पार्क, भाटिया पार्क, मिलेनियम पार्क और कई अन्य पार्क मौजूद हैं।

शहरी संरचना (Urban Structure)

जमशेदपुर के मध्य में व्यावसायिक क्षेत्र और मुख्य क्षेत्र है। शहर के केंद्र में प्रसिद्ध स्थलों में जुबली पार्क और टाटा स्टील शामिल हैं। साकची और बिष्टुपुर व्यापार के लिए सर्वोत्तम स्थान हैं। शहर के पश्चिमी भाग में आदित्यपुर, गम्हरिया और सोनारी के क्षेत्र हैं। सोनारी एक आवासीय और वाणिज्यिक पड़ोस है, जबकि आदित्यपुर और गम्हरिया प्रमुख औद्योगिक पड़ोस हैं। आदित्यपुर भी एक शहर है और जमशेदपुर का एक हिस्सा है। गम्हरिया में “औद्योगिक क्षेत्र (Industrial Area), गम्हरिया” नामक एक औद्योगिक क्षेत्र है। और आदित्यपुर में “आदित्यपुर औद्योगिक क्षेत्र (Adityapur Industrial Area) नामक एक औद्योगिक क्षेत्र भी है। शहर को पार करने वाले पांच राष्ट्रीय राजमार्ग हैं। मानगो ब्रिज शहर के केंद्र को मानगो से जोड़ता है। जमशेदपुर में मरीन ड्राइव एक लोकप्रिय सड़क है। यह सोनारी से शुरू होकर आदित्यपुर से जुड़ती है।

“NIT, जमशेदपुर (National Institute of Technology, Jamshedpur) आदित्यपुर में स्थित है। जमशेदपुर के दक्षिणी भाग में जुगसलाई, बिरसानगर, कदमा, बर्मामाइंस, टेल्को कॉलोनी, बागबेरा कॉलोनी और जोजोबेरा शामिल हैं। जुगसलाई वाणिज्यिक क्षेत्र है जो थोक बाजार के लिए जाना जाता है। जबकि बिरसानगर, कदमा और बागबेरा में आवासीय और वाणिज्यिक केंद्र हैं। बर्मामाइंस, टेल्को कॉलोनी, बागबेरा कॉलोनी और जोजोबेरा शहर के अन्य प्रमुख औद्योगिक क्षेत्र हैं। उत्तर के अलावा जमशेदपुर के पूरे क्षेत्र में कम से कम एक औद्योगिक क्षेत्र है। ऊंचे टावर में TCS (Tata Consultancy Services Ltd.) बिल्डिंग और वोल्टास हाउस शामिल हैं। जमशेदपुर में अभी कई गगनचुंबी इमारतें बन रही हैं। ये ऊंची इमारतें ज्यादातर शहर के मध्य और पश्चिमी हिस्से में हैं। जमशेदपुर में 10-14 मंजिला इमारतें हैं।

tata steel jamshedpur
Tata Steel, Jamshedpur (Photo Courtesy : @imkarki)
भाषा (Language)

राजभाषा हिन्दी है। दूसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा उर्दू है। इसके अतिरिक्त, जमशेदपुर में, बंगाली, मगही, संथाली और ओडिया सहित कई पूर्वी भारतीय भाषाएँ बोली जाती हैं। पंजाबी भी बोली जाती है, जैसा कि कुछ दक्षिण भारतीय भाषाएं हैं, जैसे कन्नड़ और तमिल

धर्म और जातीयता (Religion and Ethnicity)

जमशेदपुर में हिंदुओं की संख्या अधिक है। जबकि अल्पसंख्यक वर्ग में मुस्लिम, सिख और ईसाई शामिल हैं। शहर में जैन और बौद्ध धर्म के लोग भी रहते हैं। जमशेदपुर के लगभग सभी क्षेत्रों में हिंदू पाए जाते हैं। जमशेदपुर के लगभग सभी इलाकों में मुसलमान भी पाए जाते हैं, लेकिन ज्यादातर मुसलमान मानगो, साकची और गोलमुरी में रहते हैं। अधिकांश सिख गोलमुरी और साकची में रहते हैं। ईसाई ज्यादातर शहर के मध्य भाग में पाए जाते हैं। आदिवासी आबादी का लगभग 28% हिस्सा बनाते हैं, और जमशेदपुर के एक बहुत बड़े क्षेत्र बिरसानगर में रहते हैं।

जनसंख्या (Population)

भारत की 2011 की जनगणना के अनुसार, जमशेदपुर शहर की जनसंख्या 629,659 थी, लेकिन जमशेदपुर शहरी समूह की जनसंख्या 1,337,131 थी। सरकारी शब्दावली के अनुसार शहर को एक मिलियन से अधिक शहरी समूह के रूप में नामित किया गया है। पुरुष आबादी का 52.1% और महिलाएं 47.9% हैं। जमशेदपुर की औसत साक्षरता दर 89.41% है – जो राष्ट्रीय औसत 74% से अधिक है। जमशेदपुर में, जनसंख्या का 11.5% छह साल से कम उम्र के हैं।

जमशेदपुर शहरी समूह में शामिल हैं: जमशेदपुर (Industrial Town), जमशेदपुर (NAC), टाटा नगर रेलवे कॉलोनी (OG), मानगो (NAC), जुगसलाई (M), बागबेरा (CT), छोटा गोबिंदपुर (CT), हलुदबनी (CT), सरजामदा (CT), गधरा (CT), घोड़ाबंधा (CT), पुरीहासा (CT), आदित्यपुर (M Corp.), छोटा गम्हरिया (CT) और कपाली (CT)।

शिक्षा (Education)

जमशेदपुर में स्थित कुछ महत्वपूर्ण शिक्षण संस्थान निम्नलिखित हैं।

1949 में स्थापित XLRI (Xavier School of Management), भारत का सबसे पुराना प्रबंधन संस्थान है। 1961 में महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज (Mahatma Gandhi Memorial Medical College) और 15 अगस्त 1960 को “इंजीनियरिंग कॉलेज नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी जमशेदपुर” को एक क्षेत्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के रूप में स्थापित किया गया था। राष्ट्रीय धातुकर्म प्रयोगशाला (National Metallurgical Laboratory), वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (Council of Scientific & Industrial Research) की 38 प्रयोगशालाओं में से एक, का उद्घाटन 26 नवंबर 1950 को जवाहरलाल नेहरू द्वारा किया गया था। टाटा स्टील के तकनीकी प्रशिक्षण विभाग के रूप में 1921 में स्थापित शवक नानावटी तकनीकी संस्थान (Shavak Nanavati Technical Institute) अब अन्य कंपनियों के लिए भी कुशल कर्मचारियों को विकसित करता है। इसकी 400,000 मात्रा का पुस्तकालय शहर में सबसे लोकप्रिय में से एक है। जमशेदपुर में कई उच्च स्तरीय संस्थान स्थित हैं। अब और अधिक विश्वविद्यालयों और कई अन्य शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना के लिए और विकास किया जा रहा है।

जमशेदपुर के कुछ महत्वपूर्ण कंप्यूटर प्रशिक्षण संस्थान के बारे में आप हमारे इस लेख से जान सकते हैं।

अर्थव्यवस्था (Economy)

जमशेदपुर में सबसे बड़ा उद्योग टाटा स्टील का है। यह शहर के केंद्र में स्थित है और पूरे शहर क्षेत्र का लगभग 1/5 भाग घेरता है। यह जमशेदपुर शहर के उद्योगों के लिए एक महत्वपूर्ण केंद्र के रूप में कार्य करता है, जिनमें से बड़ी संख्या में इसके साथ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष संबंध हैं। टाटा मोटर्स दूसरा प्रमुख उद्योग है। यह शहर के पूर्वी भाग में 822 एकड़ (333 हेक्टेयर) क्षेत्र में फैला हुआ है। यह मध्यम और भारी वाणिज्यिक वाहनों और मुख्य घटकों का निर्माण करता है। कंपनी की अपनी टाउनशिप भी है जिसे आमतौर पर टेल्को के नाम से जाना जाता है।

नुवोको विस्टास कॉर्पोरेशन लिमिटेड (Nuvoco Vistas Corp. Ltd) जोजोबेरा, जमशेदपुर में स्थित एक सीमेंट संयंत्र है। यह एशिया की सबसे बड़ी सीमेंट निर्माण इकाई है। जमशेदपुर को झारखंड की औद्योगिक राजधानी माना जाता है।

जमशेदपुर सही मायने में एक अत्याधुनिक औद्योगिक नगरी है। यहाँ के कुछ प्रमुख कारखाने हैं:

टिस्को (Tata Iron and Steel Company Limited), टेल्को, टायो, उषा मार्टिन, जेम्को, टेल्कान, बीओसी, तार कंपनी, टीआरएफ, टिनप्लेट, आधुनिक स्टील एन्ड पावर लिमिटेड्, कोहिनुर स्टील एन्ड पावर लिमिटेड्, जेमिपोल्, एन एम एल आदि। साकची यहाँ का एक प्रमुख व्यापारिक केन्द्र है।

परिवहन (Transportation)

दक्षिण पूर्व रेलवे के चक्रधरपुर रेलवे डिवीजन का टाटानगर जंक्शन जमशेदपुर का एक प्रमुख रेलवे स्टेशन है। शहर के अन्य रेलवे स्टेशनों में आदित्यपुर, गम्हरिया, कांड्रा और गोविंदपुर शामिल हैं।

जमशेदपुर राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों के माध्यम से भारत के अन्य हिस्सों से जुड़ा हुआ है। प्रमुख राजमार्ग हैं:

  • राष्ट्रीय राजमार्ग 118 (National Highway 118) भारत का एक राष्ट्रीय राजमार्ग है। यह पूरी तरह से झारखंड राज्य में है और आसनबनी को जमशेदपुर से जोड़ता है। यह राष्ट्रीय राजमार्ग 18 (National Highway 18) की एक शाखा है।
  • राष्ट्रीय राजमार्ग 18 (National Highway 18) भारत का एक राष्ट्रीय राजमार्ग है। यह जमशेदपुर को धनबाद (पुरुलिया, बोकारो के रास्ते) और ओडिशा से जोड़ता है।
  • शहर से होकर राष्ट्रीय राजमार्ग 33 (National Highway 33) (बहरागोड़ा से बरही) गुजरती है जो राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 से जुड़ती है जिससे कोलकाता एवं दिल्ली जुड़े हुए हैं।

जमशेदपुर का मानगो में एक बस स्टेशन है। यहां से बोकारो, धनबाद, रांची आदि शहरों के लिए बसें जाती हैं।

सोनारी में एक हवाई अड्डा है। यह शहर के सोनारी क्षेत्र में 25 एकड़ क्षेत्र में फैला हुआ है। हवाई अड्डे का उपयोग मुख्य रूप से टाटा समूह के चार्टर्ड विमानों को लाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा यहाँ उड़ान प्रशिक्षण के लिए स्थापित जमशेदपुर को-आपरेटिव फ्लाईंग क्लब (Jamshedpur Co-operative Flying Club) तथा टाटानगर एवियेशन द्वारा इसका इस्तेमाल किया जाता है।

sonari airport
Sonari Airport (Photo Courtesy : @imkarki)
उल्लेखनीय लोग (Notable people)
सिनेमाघर (Movie Theater)
  • सिनेपोलिस पीजेपी सिनेमा (बिस्टुपुर)
  • आईलेक्स (पारडीह)
  • पायल सिनेमा (मानगो)
जमशेदपुर और इसके आस पास के दर्शनीय स्थल
जमशेदपुर जाने का उचित समय

जमशेदपुर जाने का सबसे उचित समय अक्टूबर से मार्च का होता है। अक्टूबर में मौसम काफी सुहाना होता है जो मनोरम दृश्य देखने के लिए बिलकुल सही होता है।

जमशेदपुर कैसे पहुंचें

जमशेदपुर सड़क और रेल-मार्ग द्वारा पूरे देश से जुड़ा हुआ है। हावड़ा मुम्बई रेल मार्ग पर स्थित होने के कारण टाटानगर दक्षिणपूर्व रेलवे के अत्यंत व्यस्त स्टेशनों में से गिना जाता है। राष्ट्रीय राजमार्गे 18 (National Highway 18) यहाँ से होकर गुजरती है। नगर के उत्तर पूर्वी हिस्से में एक सोनारी हवाई अड्डा (Sonari Airport) है जो वायुदूत की सेवाओं से जुड़ा है। शहर की ज्यादातर सड़कों का रखरखाव टाटा परिवार के द्वारा होने की वजह से यहाँ की सड़के झारखंड में अन्य शहरों की अपेक्षा काफी अच्छी हैं।

वायु यातायात: जमशेदपुर एयर डेकन (Air Deccan) द्वारा कोलकाता के हवाई अड्डा द्वारा जुड़ा हुआ है। इसके अलावा एक और प्राइवेट एयरलाइंस हफ्ते में दो दिन यहां के लिए दिल्ली से उड़ान भरती है। इस हवाई अड्डे का ज्यादा उपयोग कारपोरेट जहाजों के आगमन-प्रस्थान के लिए किया जाता है। इसके अलावा यहाँ उड़ान प्रशिक्षण के लिए स्थापित जमशेदपुर को-आपरेटिव फ्लाईंग क्लब (Jamshedpur Co-operative Flying Club) तथा टाटानगर एवियेशन द्वारा इसका इस्तेमाल किया जाता है। कोलकाता के अतिरिक्त यहाँ निकटतम हवाई अड्डा राँची का बिरसा मुंडा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा (Birsa Munda Airport) है जो यहाँ से लगभग 120 किलोमीटर की दूरी पर है।

रेल-मार्ग: टाटानगर (जमशेदपुर) दक्षिणपूर्व रेलवे के सबसे प्रमुख रेलवे स्टेशनों में से एक है और यह भारत के प्रमुख शहरों जैसे कोलकाता, मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, पटना, रायपुर, भुवनेश्वर, नागपुर इत्यादि से जुड़ा हुआ है। रेलवे स्टेशन को टाटानगर के नाम से जाना जाता है।

सड़क मार्ग: जमशेदपुर भारत के सभी प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। शहर से होकर राष्ट्रीय राजमार्ग 33 (National Highway 33) (बहरागोड़ा से बरही) गुजरती है जो राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 2 (National Highway 2) से जुड़ती है जिससे कोलकाता एवं दिल्ली जुड़े हुए हैं। राँची (131 किलोमीटर), पटना, गया, कोलकाता (250 किलोमीटर) सहित बिहार, बंगाल, एवं उड़ीसा के अन्य प्रमुख शहरों से जमशेदपुर के लिए सीधी बस सेवा उपलब्ध (सरकारी एवं निजी) है।

अंदरुनी यातायात: मिनीबस, तिपहिया और रिक्शा शहर के सभी हिस्सों में परिभ्रमण के लिए उपलब्ध हैं।

कुछ रोचक तथ्य (Some Interesting Facts)
  • भारतीय क्रिकेटर सौरभ सुनील तिवारी जमशेदपुर के रहने वाले हैं।
  • फिल्म अभिनेता माधवन का जन्म और पालन-पोषण यहीं हुआ था।
  • जमशेदपुर दुनिया के छह ग्लोबल कॉम्पैक्ट शहरों में से एक है, जो संयुक्त राष्ट्र की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है।
  • मिस वर्ल्ड 2000 और भारतीय सिनेमा की अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का जन्म जमशेदपुर में हुआ था।
  • फेमिना मिस इंडिया 2004 और भारतीय सिनेमा की अभिनेत्री तनुश्री दत्ता का जन्म और पालन-पोषण यहीं हुआ था।
  • झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा जमशेदपुर के रहने वाले है।
  • झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास जमशेदपुर के रहने वाले है।
  • जमशेदपुर सीआईआई सर्वेक्षण में भारत के महत्वपूर्ण शहरों में 37वें स्थान पर है।
  • जमशेदपुर से गुजरने वाली स्वर्णरेखा नदी में सोना मिलता है।
  • जनसंख्या के घनत्व के हिसाब से जमशेदपुर में दो पहिया वाहनों की संख्या देशभर में सबसे ज्यादा है।
  • जमशेदपुर दलमा पहाड़ी की गोद में बसा है।
  • जमशेदपुर को स्वच्छ सर्वेक्षण (Swach Survekshan) 2020 में भारत के सबसे स्वच्छ शहर के रूप में स्थान दिया गया था।

3 thoughts on “Jamshedpur : The City of Steel | (जमशेदपुर – भारत का औद्योगिक शहर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: